Mukhyamantri Bal Seva Yojana मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2022 आवेदन

कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण हमारे देश को हर दिन नई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। देश में कई ऐसे बच्चे हैं जिनके माता-पिता एक या दोनों माता-पिता की मृत्यु कोरोना वायरस संक्रमण के कारण हुई है। साथ ही उत्तर प्रदेश में लगभग 197 ऐसे बच्चों की पहचान की गई है जिनके माता-पिता की मृत्यु हो चुकी है और 1799 ऐसे बच्चे जिनके माता-पिता की मृत्यु हो चुकी है। इन सभी बच्चों के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना Mukhyamantri Bal Seva Yojana 2022 शुरू की गई है। इस योजना के माध्यम से इन बच्चों को आर्थिक सहायता के साथ-साथ कई अन्य सुविधाएं भी प्रदान की जाएंगी ताकि वे अपना जीवन यापन कर सकें। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से इस योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे।

Mukhyamantri Bal Seva Yojana

sarkariyojnaa join telegram

इस पोस्ट में क्या है ?

Mukhyamantri Bal Seva Yojana 2022

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना (Mukhyamantri Bal Seva Yojana 2022) उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की गई है। इस योजना के माध्यम से उन सभी बच्चों की मदद की जाएगी जिनके माता-पिता की मृत्यु कोरोनावायरस संक्रमण से हुई है। इस योजना की शुरुआत 30 मई, 2021 को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की थी। इस योजना के माध्यम से न केवल बच्चों को आर्थिक सहायता दी जाएगी बल्कि उनकी शिक्षा से लेकर उनकी शादी तक का खर्च सरकार वहन करेगी। मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के तहत बच्चों या उनके अभिभावक को बच्चों के पालन-पोषण के लिए 4000 की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।

इसके अलावा इस योजना के माध्यम से बालिका विवाह के लिए आर्थिक सहायता भी प्रदान की जाएगी। अगर बच्चे की उम्र 10 साल से कम है और उसका कोई अभिभावक नहीं है तो उसे सरकारी बाल गृह में आवासीय सुविधा प्रदान की जाएगी। लड़कियों को भी अलग-अलग आवासीय सुविधाएं प्रदान की जाएंगी और स्कूल और विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले सभी लड़कों को भी इस योजना के तहत एक लैपटॉप/टैबलेट प्रदान किया जाएगा।

योजना के तहत एमआईएस पोर्टल लॉन्च किया जाएगा

जैसा कि सभी जानते हैं कि उत्तर प्रदेश सरकार ने देश में कोरोनावायरस के कारण अनाथ बच्चों के भरण-पोषण शिक्षा और चिकित्सा की देखभाल के लिए मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना की नियुक्ति की थी। इस योजना के तहत विभाग द्वारा जमीनी स्तर पर कार्य किया जा रहा है। सरकार ने इसी महीने मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना एमआईएस पोर्टल शुरू करने का फैसला किया है। एमआईएस पोर्टल में दो तरह की जानकारी मिलेगी। जिसमें निरीक्षक को मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के महिलाओं एवं बच्चों एवं लाभार्थियों की जानकारी होगी।

उत्तर प्रदेश में इस योजना के तहत पंजीकृत बच्चों की संख्या 11049 और उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना (सामान्य) के तहत पंजीकृत बच्चों की संख्या 5200 है। पंजीकृत बच्चों से संबंधित सभी जानकारी दो पोर्टल में उपलब्ध होगी। जिसमें आपका पता स्वास्थ्य कार्ड व्यवस्था के लाभार्थी और अन्य डेटा शामिल है।

योजना के संचालन के लिए आरंभ किया जाएगा एमआईएस पोर्टल

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश मिशन वात्सल्य के तहत बाल देखभाल संस्थानों और किशोर न्याय बोर्ड और बाल कल्याण समितियों के लिए एमआईएस पोर्टल शुरू किया जाएगा। यह पोर्टल जून 2022 में लॉन्च किया जाएगा। इस पोर्टल के माध्यम से योजना से संबंधित सभी भौतिक और वित्तीय जानकारी ऑनलाइन प्रदान की जाएगी। इसके अलावा योजना के संचालन की प्रभावी निगरानी एवं समीक्षा भी होगी। इस पोर्टल पर बच्चों के स्वास्थ्य शिक्षा और कौशल विकास से संबंधित डाटा का डिजिटलीकरण किया जाएगा। इसके अलावा एमआईएस पोर्टल के माध्यम से बच्चों की देखभाल संरक्षण और पुनर्वास प्रभावी ढंग से किया जाएगा।

  • यह पोर्टल बाल कल्याण समिति एवं किशोर न्याय बोर्ड के कार्यों की प्रभावी समीक्षा करने में भी कारगर सिद्ध होगा। महिला कल्याण एवं बाल विकास विभाग ने अगले 100 दिनों के लिए कार्ययोजना तैयार की है। शाहजहांपुर में स्टेट ऑब्जर्वेशन हाउस का उद्घाटन होगा. इस ग्रह के निर्माण में सरकार ने 7 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। जिसकी क्षमता 50 है।
  • इस योजना के तहत 11,049 बच्चों को कोविड-19 योजना के तहत पात्र बनाया गया है। सामान्य योजना के तहत कुल 5,284, कोविड-19 योजना के तहत 480 अनाथ बच्चे माता-पिता के साथ 10,509 बच्चे सामान्य योजना के तहत 295 अनाथ बच्चे सामान्य योजना के तहत 4,989 एकल माता-पिता बच्चों को मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का लाभ मिला। रहा है।

Highlights OF मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2022

🔥 योजना का नाम 🔥 मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना
🔥 उद्देश्य 🔥 कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अनाथ हुए बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करना।
🔥 साल 🔥 2022
🔥 किसने आरंभ की 🔥 उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा
🔥 लाभार्थी 🔥 कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अनाथ हुए उत्तर प्रदेश के बच्चे।
🔥 आवेदन का प्रकार 🔥 4000 प्रतिमाह
🔥 आर्थिक सहायता 🔥 ऑनलाइन/ऑफलाइन

 

6000 बच्चों को प्रदान किया गया योजना का लाभ

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना उन बच्चों के लिए शुरू की गई थी जिन्होंने कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अपने माता-पिता में से एक या दोनों को खो दिया था। इस योजना के माध्यम से बच्चों को न केवल आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है बल्कि उनकी शिक्षा से लेकर शादी तक का खर्च उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा वहन किया जाता है। इस योजना से अब तक 6,000 बच्चे लाभान्वित हो चुके हैं। यह योजना महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा क्रियान्वित की जा रही है। प्राप्त सभी आवेदनों के सत्यापन के बाद महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा लाभार्थियों का चयन किया जाता है। विभाग ने 2,000 नए बच्चों का भी चयन किया है। इस महीने की किश्तें किसको पहुंचाई जाएंगी।

अनाथ लड़कियों की शादी में आर्थिक सहायता

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के तहत सरकार उन सभी बच्चियों को आर्थिक मदद देगी। यह वित्तीय सहायता आवश्यक दस्तावेजों के सत्यापन पर आवेदन की तारीख से 15 दिनों के भीतर प्रदान की जाएगी। महिला एवं बाल विकास विभाग के मुख्य सचिव ने इस संबंध में निर्देश दिए हैं। सभी चिन्हित लड़कियां या उनके अभिभावक और अभिभावक सीधे यूनिट से संपर्क कर सकते हैं। इस कार्य के लिए जिला स्तर पर एक कार्यदल का गठन किया गया है। सभी जिला अधिकारियों को एक पत्र और आवेदन पत्र भी भेजा गया है। इस योजना के लड़की को शादी के लिए पात्र होने पर 101000 की राशि प्रदान की जाएगी।

अनाथ लड़कियों के आवेदन

वे सभी लड़कियां जिनकी 2 जून 2021 के बाद शादी हो चुकी है इस योजना के तहत आवेदन कर सकती हैं। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए विवाह के 90 दिनों के भीतर आवेदन जमा करना अनिवार्य है। विवाह के समय वर की आयु 21 वर्ष और वधू की आयु 18 वर्ष या उससे अधिक होनी चाहिए। सभी पात्र लड़कियां इस लाभ के लिए ऑफलाइन आवेदन कर सकती हैं। आवेदन करने के लिए आप ग्रामीण क्षेत्र और शहरी क्षेत्र में ग्राम विकास अधिकारी ग्राम पंचायत अधिकारी विकास खंड या जिला परिवीक्षा अधिकारी के कार्यालय में आवेदन कर सकते हैं। यह अनुरोध लेखपाल तहसील या जिला परिवीक्षा अधिकारी को भेजा जा सकता है। 

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का शुभारंभ

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना

जैसा कि सभी जानते हैं कि उत्तर प्रदेश सरकार ने कोरोनावायरस संक्रमण के कारण अनाथ बच्चों के लिए मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना शुरू की थी। यह योजना 22 जुलाई 2021 को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की गई थी। इस अवसर पर 4050 राज्य के बच्चों के माता-पिता के बैंक खातों में ₹4000 प्रति माह की दर से 12-12 लाख रुपये वितरित किए गए हैं। इस योजना के तहत अब कोरोना के अलावा अन्य बीमारियों के कारण अनाथ बच्चों को शामिल करने का निर्णय लिया गया है।

इस अवसर पर राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने स्वीकृति पत्र स्कूल बैग चॉकलेट आदि वितरित किए। 10 लाभार्थी बच्चों को। इनमें से दो बच्चों को टोकन भी दिए गए हैं। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने घोषणा की है कि कोरोना वायरस के कारण निरक्षर महिलाओं के लिए भी एक नई योजना शुरू की जाएगी

राजपाल द्वारा बनाई गई योजना की सराहना

पालन-पोषण से लेकर सभी अनाथ बच्चों की शिक्षा और स्वास्थ्य तक वाहन की देखभाल उत्तर प्रदेश सरकार करेगी। इसके अलावा वे सभी बच्चे जो अपने रिश्तेदारों की देखभाल नहीं कर सकते उन्हें बाल गृह में रखा जाएगा। लड़कों को अटल आवासीय विद्यालयों के माध्यम से और लड़कियों को कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालयों में शिक्षा प्रदान की जाएगी। इसके अलावा बाल निरीक्षकों के लिए पीएमकेएस की गाइडलाइंस भी जल्द आने वाली है। जिसका लाभ बच्चों को भी दिया जाएगा। बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिए सरकार की ओर से सभी इंतजाम किए जाएंगे।

इसके अलावा कार्यक्रम की मुख्य अतिथि राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने इस योजना की सराहना की है उनके द्वारा कहा गया है कि अनाथ बच्चों के लिए इस तरह की योजना शुरू करने वाला यूपी पहला राज्य है। आनंदीबेन पटेल ने भी अधिकारियों से एक अनाथ बच्चे को गोद लेने की अपील की है। राजपाल जी ने भी अनाथ बच्चों के सपनों को पूरा करने के लिए व्यापक जनभागीदारी का आह्वान किया है। आनंदीबेन ने सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को भी आदेश दिया है कि अगर विश्वविद्यालय में अनाथ बच्चे हैं तो उनकी मदद की जानी चाहिए।

बच्चों की शादी और टैबलेट वितरण के लिए वित्तीय सहायता।

इस योजना के तहत सरकार आर्थिक सहायता से कई अन्य सुविधाएं भी प्रदान करती है। ताकि अनाथ बच्चे रोजी-रोटी कमा सकें। इस योजना के तहत उत्तर प्रदेश सरकार सभी पात्र लड़कियों की शादी के लिए 101000 की राशि प्रदान करेगी। इसके अलावा सभी बच्चे जो स्कूल और कॉलेज में पढ़ रहे हैं या व्यावसायिक शिक्षा ले रहे हैं उन्हें मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के माध्यम से टैबलेट/लैपटॉप प्रदान किया जाएगा। ताकि आपकी पढ़ाई में कोई बाधा न आए। अगर आप भी इस योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो आप अपनी पात्रता सुनिश्चित कर लें और जल्द से जल्द इस योजना के तहत आवेदन करें। इस योजना का लाभ उन बच्चों को भी दिया जाएगा जिन्होंने कोरोना संक्रमण के कारण अपने कानूनी अभिभावक या आय अभिभावक को खो दिया है।

मृत्यु की स्थिति में भी योजना का लाभ दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना उन बच्चों के लिए शुरू की गई है जिनके माता-पिता की मृत्यु कोरोना वायरस संक्रमण के कारण हुई है। इस योजना को कैबिनेट की मंजूरी पहले ही मिल चुकी है। महिला एवं बाल विकास विभाग इस योजना के क्रियान्वयन के लिए नीति तैयार कर रहा है। इस योजना के तहत चिन्हित सभी बच्चों की सूची एवं पात्रता शर्ते तैयार कर ली गई है। मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के माध्यम से रखरखाव शिक्षा स्वास्थ्य देखभाल आदि का पूरा ध्यान रखा जाएगा। सभी अनाथ बच्चों की।

  • एंटीजन टेस्ट आरटीपीसीआर पॉजिटिव टेस्ट रिपोर्ट ब्लड रिपोर्ट और सीटी स्कैन ने कोविड-19 संक्रमण को कोरोना वायरस संक्रमण से मौत का सबूत माना है लेकिन अगर कोरोना वायरस संक्रमित मरीज की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद भी कोविड पोस्ट के कारण मौत हो जाती है तो ऐसी स्थिति में भी उनके बच्चों को इस योजना का लाभ मिलेगा।
  • यह जानकारी महिला कल्याण निदेशक मनोज कुमार राय ने दी। इस योजना के तहत जिला स्तरीय टास्क फोर्स के माध्यम से पात्र बच्चों के कानूनी अभिभावकों की पहचान की जाएगी। इन बच्चों के विकास की निगरानी जिला बाल संरक्षण इकाई एवं बाल कल्याण समिति भी करेगी।

4000 वित्तीय सहायता और आवास सुविधा

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2022 के माध्यम से सभी पात्र प्राप्तकर्ताओं को₹4,000 प्रति माह की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। यह वित्तीय सहायता बच्चों की देखभाल के लिए होगी। यह वित्तीय सहायता बच्चे के वयस्क होने तक उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा प्रदान की जाएगी। इसके अलावा उत्तर प्रदेश सरकार उन सभी बच्चों को आवासीय सुविधा प्रदान करेगी जो 10 वर्ष या उससे कम उम्र के हैं और जिनके पास मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के माध्यम से कोई अभिभावक नहीं है। उन्हें शासकीय बाल गृह में आवास उपलब्ध कराकर यह आवासीय सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। ताकि उन सभी बच्चों का ध्यान रखा जा सके। वर्तमान में उत्तर प्रदेश में लड़कों के लिए लगभग 5 सरकारी घर हैं जो मथुरा, लखनऊ, प्रयागराज, आगरा और रामपुर में स्थित हैं।

नाबालिग लड़कियों की देखभाल और शिक्षा

उन सभी कम उम्र की लड़कियों को आवास और शिक्षा प्रदान करने की जिम्मेदारी भी उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के माध्यम से ली जाएगी। सभी पात्र बालिकाओं को भारत सरकार द्वारा संचालित कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय राजकीय बाल गृह एवं राज्य सरकार द्वारा संचालित अटल आवासीय विद्यालय के माध्यम से शिक्षा एवं आवास प्राप्त होगा। वर्तमान में प्रदेश में लगभग 13 बाल गृह संचालित हैं तथा 17 अटल आवासीय विद्यालय संचालित हैं। सभी कम उम्र की लड़कियों की देखभाल की गारंटी के लिए यह योजना बनाई गई है। अब देश की लड़कियां मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का लाभ पाकर जीविकोपार्जन कर सकेंगी।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का उद्देश्य

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का मुख्य उद्देश्य उन सभी बच्चों को वित्तीय सहायता प्रदान करना है जो कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अनाथ हो गए हैं। इस योजना के माध्यम से ऐसे सभी बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी ताकि वे अपना भरण-पोषण कर सकें। मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना की बदौलत बच्चों को दूसरों पर निर्भर रहने की जरूरत नहीं पड़ेगी। क्योंकि सभी बच्चों की पूरी जिम्मेदारी उत्तर प्रदेश सरकार उठाएगी। मासिक वित्तीय सहायता से लेकर आवास और विवाह सहायता तक राज्य सरकार वित्तीय सहायता भी प्रदान करेगी। इसके अलावा उत्तर प्रदेश सरकार भी इस योजना के माध्यम से बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेगी।

यूपी बाल सेवा योजना 2022 के लाभ और विशेषताएं

  • मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना की शुरुआत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 30 मई, 2021 को की थी।
    इस योजना के माध्यम से उन सभी बच्चों की मदद की जाएगी जिनके माता-पिता की मृत्यु कोरोना वायरस के संक्रमण से हो चुकी है।
  • इस Mukhyamantri Bal Seva Yojana 2022 के तहत बच्चों को न केवल आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी बल्कि उनकी शिक्षा से लेकर उनकी शादी तक का खर्च सरकार द्वारा वहन किया जाएगा।
  • सभी पात्र बच्चों के पालन-पोषण के लिए उन्हें हर महीने ₹4,000 की सहायता राशि प्रदान की जाएगी।
    यह वित्तीय सहायता बच्चे के वयस्क होने तक प्रदान की जाएगी।
  • इसके अलावा इस योजना के माध्यम से लड़कियों की शादी के लिए ₹101000 की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।
    यदि इस योजना के अंतर्गत आने वाले बच्चे की आयु 10 वर्ष से कम है और कोई अभिभावक नहीं है तो ऐसी स्थिति में बच्चे को आवासीय सुविधा भी प्रदान की जाएगी।
  • यह सुविधा राजकीय बाल गृह के माध्यम से प्रदान की जाएगी।
  • मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के माध्यम से पढ़ने वाले सभी बच्चों को एक लैपटॉप या टैबलेट भी प्रदान किया जाएगा।
  • इस योजना का लाभ उन बच्चों को भी प्रदान किया जाएगा जिन्होंने कोरोनावायरस संक्रमण के कारण अपने कानूनी अभिभावक या आय अभिभावक को खो दिया है।
  • भारत सरकार द्वारा संचालित कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय राजकीय बाल गृह एवं राज्य सरकार द्वारा संचालित अटल आवासीय विद्यालयों के माध्यम से सभी बालिकाओं को शिक्षा एवं आवास प्रदान किया जायेगा।

आईटीआई अपरेंटिस के लिए जारी पात्रता शर्तें

कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए Mukhyamantri Bal Seva Yojana 2022 शुरू की गई थी। इस योजना के तहत आईटीआई प्रशिक्षुओं को लाभ देने का भी निर्णय लिया गया है। जिसके लिए शासकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान के निदेशक डॉ. नरेश कुमार द्वारा पात्रता शर्त 8 जून 2021 को जारी की गई थी। सभी पात्र प्राप्तकर्ताओं को लैपटॉप टैबलेट विवाह वित्तीय सहायता और मासिक सहायता प्रदान की जाएगी। वे सभी आईटीआई प्रशिक्षु जो इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं उन्हें अपने जिले के नोडल आईटीआई में आवेदन करना होगा। आईटीआई प्रशिक्षु के लिए कुछ पात्रता शर्तें इस प्रकार हैं।

  • प्रशिक्षु की आयु 18 वर्ष से कम होनी चाहिए।
  • आवेदक के माता-पिता की मृत्यु कोरोना वायरस संक्रमण के कारण हुई होगी।
  • यदि आवेदक के माता-पिता में से एक की मृत्यु मार्च 2020 से पहले हो जाती है और दूसरे की मृत्यु कोरोना संक्रमण से हो जाती है तो इस स्थिति में भी इस योजना का लाभ उठाया जा सकता है।
  • यदि आवेदक के माता-पिता का 1 मार्च, 2020 से पहले निधन हो गया है और कानूनी अभिभावक की मृत्यु कोरोनावायरस संक्रमण के कारण हो गई है तो वे भी इस योजना के लिए पात्र हैं।
  • वे बच्चे भी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का लाभ प्राप्त कर सकेंगे जिनके माता-पिता से आय अर्जित करने वाले माता-पिता की मृत्यु कोरोना वायरस संक्रमण के कारण हुई है।
  • इसके अलावा यदि माता-पिता दोनों जीवित हैं लेकिन आय अर्जित करने वाले माता-पिता की मृत्यु कोरोना वायरस संक्रमण के कारण हुई है और जीवित माता-पिता की वार्षिक आय ₹200000 या उससे कम है तो इस योजना का लाभ भी इस स्थिति में प्रदान किया जाएगा।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना (Mukhyamantri Bal Seva Yojana 2022) के लिए पात्रता

  • आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • जिन बच्चों ने COVID-19 के कारण माता-पिता दोनों को खो दिया है।
  • कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अपने कानूनी अभिभावक को खोने वाले बच्चे इस योजना के तहत पात्र हैं।
  • जिन बच्चों ने अपने माता-पिता को खो दिया है जो COVID-19 के कारण पैसा कमा रहे थे।
  • जिन बच्चों के एकमात्र माता-पिता जीवित थे और उनकी मृत्यु कोरोना वायरस संक्रमण के कारण हुई थी।
  • बच्चे की उम्र 18 साल या 18 साल से कम होनी चाहिए।
  • एक परिवार के सभी बच्चे (जैविक और कानूनी रूप से गोद लिए गए) इस योजना का लाभ उठा सकेंगे।
  • वर्तमान में जीवित माता या पिता की आय ₹200,000 या ₹200,000 से कम होनी चाहिए।

यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2022 के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • उत्तर प्रदेश के अधिवास की घोषणा
  • बच्चे का आयु प्रमाण पत्र
  • 2019 से मौत के सबूत
  • माता-पिता का मृत्यु प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • शैक्षणिक संस्थान में पंजीकरण का प्रमाण पत्र।
  • आवेदन पत्र
  • वेतनभोगी माता-पिता या अभिभावक का मृत्यु प्रमाण पत्र
  • कोविड -19 द्वारा मृत्यु का प्रमाण
  • वैधता और आयु का प्रमाण पत्र
  • 2015 के अनुच्छेद 94 में उल्लिखित प्रमाण पत्रों के अतिरिक्त परिवार रजिस्ट्री की प्रति
  • उम्र का सबूत
  • विवाह की तिथि निश्चित या अनुष्ठापित किए जाने से संबंधित अभिलेख
  • शादी का कार्ड
  • पता
  • आय प्रमाण पत्र इस योजना से लाभान्वित होने के लिए वार्षिक पारिवारिक आय ₹300,000 या उससे कम होनी चाहिए।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना दिशानिर्देश

  • मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना हरियाणा सरकार द्वारा उन बच्चों के भविष्य को सुरक्षित करने के उद्देश्य से शुरू की गई थी जिन्होंने कोरोनोवायरस के कारण अपने माता-पिता को खो दिया है।
  • इस योजना के माध्यम से सरकार केन्द्रीय विद्यालय में बच्चों को शिक्षा प्रदान करेगी।
  • इसके अलावा बच्चों के 18 वर्ष की आयु तक पहुंचने तक 2,500 रुपये की मासिक वित्तीय सहायता भी प्रदान की जाएगी।
  • यह राशि मुहैया कराने के लिए केंद्र सरकार ने बच्चों के लिए बचत खाता खोलने का फैसला किया है।
  • इसके अलावा Mukhyamantri Bal Seva Yojana 2022 संस्थान में रहने वाले बच्चों के आवर्ती जमा खाते खोले जाएंगे।
  • Rs 1500 18 वर्ष की आयु तक जमा करने के लिए।
  • इसके अलावा, सरकार इन बच्चों के अन्य खर्चों के लिए₹12,000 की वार्षिक सहायता भी प्रदान करेगी।
  • कस्तूरबा गांधी बाल विद्यालय में लड़कियों को मुफ्त स्कूली शिक्षा भी मिलेगी।
  • इसके अलावा लड़की के खाते में ₹51000 की राशि जमा की जाएगी और शादी के समय ब्याज सहित शगुन भी दिया जाएगा।
  • इस योजना के सभी बाल लाभार्थियों को आयुष्मान भारत योजना के तहत स्वास्थ्य बीमा प्राप्त होगा।
  • 18 वर्ष की आयु तक के बीमा प्रीमियम की राशि का भुगतान सरकार पीएम केयर्स के माध्यम से करेगी।
  • इसके अलावा 18 वर्ष की आयु से अगले 5 वर्षों तक उच्च शिक्षा की अवधि के दौरान मासिक वित्तीय सहायता और 23 वर्ष की आयु तक पहुंचने वाले बच्चों को व्यक्तिगत और व्यवसाय के लिए पीएम केयर्स फंड से 10 लाख रुपये की एकमुश्त वित्तीय सहायता।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के तहत आवेदन प्रक्रिया

यदि आप यूपी Mukhyamantri Bal Seva Yojana बाल सेवा योजना के तहत आवेदन करना चाहते हैं तो आपको नीचे दी गई प्रक्रिया का पालन करना होगा।

  • यदि आप ग्रामीण क्षेत्र में रहते हैं तो आपको पंचायत/ग्राम विकास अधिकारी के कार्यालय या ब्लॉक या जिला परिवीक्षा अधिकारी के पास जाना चाहिए और यदि आप शहरी क्षेत्र में रहते हैं तो आपको लेखपाल तहसील या जिले से परिवीक्षा अधिकारी के कार्यालय में जाना चाहिए। 
  • आपको इस योजना के लिए आवेदन पत्र कार्यालय में प्राप्त करना होगा।
  • अब आपको आवेदन पत्र में मांगी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे अपना नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी आदि दर्ज करनी होगी।
  • इसके बाद आपको सभी जरूरी दस्तावेज अटैच करने होंगे।
  • अब आपको यह आवेदन पत्र कार्यालय में भेजना होगा।
  • इस तरह आप यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के तहत चल सकेंगे।
  • जिला बाल संरक्षण इकाई एवं बाल कल्याण समिति द्वारा पात्र बच्चों की पहचान कर 15 दिन के अंदर आवेदन प्रक्रिया पूरी कर ली जायेगी।
  • इस योजना के तहत पिता की मृत्यु के 2 साल के भीतर अनुरोध किया जा सकता है।
  • इस योजना का लाभ अनुमोदन प्राप्त होने की तिथि से प्रदान किया जाएगा।

ध्यान दें :- ऐसे ही केंद्र सरकार और राज्य सरकार के द्वारा शुरू की गई नई या पुरानी सरकारी योजनाओं की जानकारी हम सबसे पहले अपने इस वेबसाइट sarkariyojnaa.com के माध्यम से देते हैं तो आप हमारे वेबसाइट को फॉलो करना ना भूलें ।

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे Like और share जरूर करें ।

इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद…

Posted by Amar Gupta

🔥🔥 Join Our Group For All Information And Update, Also Follow me For Latest Information🔥🔥

🔥 Follow US On Google News Click Here
🔥 Whatsapp Group Join Now Click Here
🔥 Facebook Page Click Here
🔥 Instagram Click Here
🔥 Telegram Channel Techgupta Click Here
🔥 Telegram Channel Sarkari Yojana Click Here
🔥 Twitter Click Here
🔥 Website  Click Here

FAQ Mukhyamantri Bal Seva Yojana  2022 से जुड़े कुछ सवाल और जवाब

बाल सेवा योजना क्या है?

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना Mukhyamantri Bal Seva Yojana के तहत उन बच्चों को आर्थिक सहायता के साथ-साथ अन्य प्रकार की सहायता भी प्रदान की जाएगी। अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता से लेकर मोहिया को सरकार आवास सहायता प्रदान करेगी। जिन बच्चों के माता-पिता का निधन हो गया है, उन्हें हर महीने 4,000 रुपये की राशि मिलेगी।

उत्तर प्रदेश सरकार के अंतर्गत बाल सेवा योजना कब शुरू की गयी ?

उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से Mukhyamantri Bal Seva 30 मई, 2021 को शुरू की गई थी।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना की शुरुआत किसके लिए की गयी है ?

Mukhyamantri Bal Seva योजना उन अनाथ बच्चों के लिए शुरू की गई थी जिन्होंने कोरोना के समय में अपने अभिभावक को खो दिया था।

CM बाल सहायता योजना यूपी के तहत कितनी सहयता राशी मिलती है?

इस योजना के तहत राज्य सरकार अनाथ और बेसहारा बच्चे की देखभाल करती है जिनके माता-पिता की मृत्यु कोरोना महामारी के कारण हुई है।

Leave a Comment