UIDAI ने बैंक से कहा आधार आधारित भुगतान प्रणाली नहीं होनी चाहिए बंद

Please share this
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

एसबीआई बैंक चाहती है आधार आधारित भुकतान प्रणाली(AEPS) को बंद करना,AEPS हो सकता है हमेशा के लिए बंद ।

आधार आधारित भुकतान प्रणाली

नई दिल्ली, यूआइडीएआइ (UIDAI) ने बैंकों से आधार भुगतान प्रणाली AEPS को बंद नहीं करने को कहा है, यूआइडीएआइ का कहना है AEPS को बंद करने से ग्रामीण इलाके के लोगों को ज्यादा नुकसान का सामना करना पड़ सकता है साथ ही AEPS संचालकों से भी एक कमाई का जरिया छीन जाएगा ,UIDAI ने यह भी बताया कि AEPS बंद करने से कल्याणकारी लाभो की वितरण में बाधा आ सकती है ।

यह बात उस वक्त सामने निकलकर आई जब यूआइडीएआइ (UIDAI) ने भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के द्वारा भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) को भेजे गए पत्र का संज्ञान लिया ।

बता देते हैं कि 19 नवंबर 2018 को लिखे गए अपने पत्र में एसबीआई(SBI) ने एनपीसीआई(NPCI) को आधार आधारित भुगतान प्रणाली(AEPS) को बंद कराने की अपनी मंशा जाहिर की थी, एसबीआई का कहना है कि आधार आधारित भुगतान प्रणाली (AEPS) को जारी रखने से सुप्रीम कोर्ट के फैसले का उल्लंघन होगा ।

इसी पर यूआइडीएआइ(UIDAI) ने कहा कि इस मामले की बहुत ही गंभीरता से जांच की गई है और सर्वोच्च न्यायालय ने आधार कार्यक्रम की संवैधानिकता को बरकरार रखा है, विशेष रूप से आधार अधिनियम धारा 7 I गैरतलब किया है,सितंबर में हुई सुनवाई में देश की सर्वोच्च न्यायालय ने आधार की संवैधानिक वैधता को बरकरार रखा है ।
और इस महत्वपूर्ण फैसले को लेते हुए उच्च न्यायालय ने यह भी सुनिश्चित किया की आधार की जरूरत कहां पर है और कहां नहीं ? । कोर्ट ने यह साफ कहां था कि स्कूल में दाखिले, बैंक खाता खोलने, मोबाइल नंबर लेने इन सब कार्य में आधार कार्ड की जरूरत नहीं होगी । साथ ही कोर्ट ने यह भी बताया था कि आधार कार्ड की अनिवार्यता को लागू रखा जाएगा ।
ALSO READ :-

देश के सभी सीएससी सेंटर में फिर से शुरू होगी आधार से जुड़ी सेवाएं, केंद्रीय मंत्री ने दिलाया भरोसा

यहां तक की कोर्ट के इस फैसले को ध्यान में रखते हुए भारतीय स्टेट बैंक(SBI) ने भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम(NPCI) को पत्र लिखा ।

फिलहाल AEPS चालू है लेकिन,AEPS के भविष्य को लेकर कुछ भी नहीं कहा जा सकता, अभी तो सिर्फ SBI ने यह बात कहीं है, आने वाले दिनों में कहीं और भी बैंक इसमें शामिल ना हो जाए ।

NPCI के आदेश के इंतजार में अभी यूआइडीएआइ (UIDAI) और भारतीय स्टेट बैंक(SBI) दोनों हैं, और फिलहाल आधार आधारित भुगतान प्रणाली(AEPS) भी चालू है ।


Please share this
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Previous Article
Next Article

26 Replies to “UIDAI ने बैंक से कहा आधार आधारित भुगतान प्रणाली नहीं होनी चाहिए बंद”

  1. Niranjan Kumar Yadav

    Aeps system band Hone se Sabse jyada problem gramin area ke logo Ko hoga.jisko Abhi bahut hi Asani se apna paise ka transaction apne near ke CSC se parapt kar pate h.so plz is system Ko chalu hi Rakha jaye.

  2. NARENDRA KUMAR MAHAWAR

    I do not want anyone to join me in my bank account because I do not want to send a bank account to the bank for a penny, and I would like to see him in the bank, and I would like to see him in the bank.

  3. Umakant sharma

    Hello sir me Garmin chetra se hu Aeps hi mera kamane ki jariya he or Garmin bhaiyo ko bhi subhidha mil rahi h so please Aeps Portal na band kiya jay

  4. Kanhaiya Mahaldar

    मैं कन्हैया महलदार ग्राम-आजमनगर, जो कि एकग्रामीण इलाकों में है। जो कि बैंक जाने में काफी कठिनाई होती है। इसलिए आधार आधारित ग्राहक सेवा केंद्र(aeps) बंध नहीं होना चाहिये।

  5. Suresh prasad Gupta

    Ji nhi AEPS BAND nhi honi chahiye kyoki gramin elako me ekdam mahamari hone lagegi
    Mai ek khud Csc vle hu esiliye mai apna app sabhi ke bich ray de raha hu.

  6. GULSHAN KUMAR

    AEPS सेवा बंद नही होनी चाहिए। क्योकि हमारे ग्रामीण लोग समय की बचत के साथ साथ अच्छी सुविधा के कारण AEPS सेवा से संतुष्ट है।
    एक बात और जितने भी AEPS संचालक है उनकी कमाई का जरिया खत्म हो जाएंगे।
    भाई क्यो सभी को बेरोजगार बनाने के लिए तैयार हो।
    इसे बंद मत होने दो।

  7. PARVEEN KUMAR

    I am also an AEPS runner VLE Through CSC Digipay Service. All the people in my colony are happy with this services. This service is very good for the illterate people. He dose not want to get into the Bank and ATM.

  8. Nar Bahadur Chhetri

    Dear Sir,
    Mai ek Aeps Sanjalan hu,
    Aeps band nahi hona jahiyeh,
    Qki Aeps band hojayehga to hamey or hamarey Goan ke logoko 45 km dur Jakar Bank per line lagna parega,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जरुरी सूचना

दोस्तों, हमारी वेबसाइट (sarkariyojnaa.com)सरकार द्वारा चलाई जाने वाली वेबसाइट नहीं है,ना ही किसी सरकारी मंत्रालय से इसका कुछ लेना देना है | यह ब्लॉग किसी व्यक्ति विशेष द्वारा, जो सरकारी योजनाओं में रुचि रखता है और औरों को भी बताना चाहता है, द्वारा चलाया गया है | हमारी पूरी कोशिश रहती की एकदम सटीक जानकारी अपने पाठकों तक पहुंचे जाए लेकिन लाख कोशिशों के बावजूद भी गलती की सम्भावना को नकारा नहीं जा सकता| इस ब्लॉग के हर आर्टिकल में योजना की आधिकारिक वेबसाइट की जानकारी दी जाती है| हमारा सुझाव है कि हमारा लेख पढ़ने के साथ साथ आप आधिकारिक वेबसाइट से भी जरूर जानकारी लीजिये | अगर किसी लेख में कोई त्रुटि लगती है तो आपसे आग्रह है कि हमें जरूर बताएं |

हम अपने ब्लॉग के माध्यम से रजिस्ट्रेशन नहीं करवाते ना ही कभी भी पैसे कि मांग करते हैं | हमारा उद्देश्य है केवल आप तक सही जानकारी पहुँचाना !