सरकार की नई योजना ई-नाम ,अब किसानों को होगा दोगुना मुनाफा | E-NAM PORTAL | E-NAM SCHEME ।

Please share this
  •  
  • 156
  •  
  • 628
  • 128
  •  
    912
    Shares

सरकार की नई योजना ई-नाम ,अब किसानों को होगा दोगुना मुनाफा | E-NAM PORTAL | E-NAM SCHEME ।

|| ई-नाम योजना क्या है | ई-नाम पोर्टल रजिस्ट्रेशन | ई-नाम का लाभ कैसे लें | किसानों के लिए मोदी सरकार की नई योजना | E-NAM PORTAL |E-NAM SCHEME | E-NAM Application | E-NAM Farmer’s Market | Krishi Baazaar registration ||

जैसा कि मोदी सरकार ने अपनी सरकार बनने से पहले यह गठन लिया था कि वह आने वाले दिनों में किसानों की आय को दुगनी कर देंगे इसी को ध्यान में रखते हुए मोदी सरकार ने राष्ट्रीय कृषि बाजार ( E-NAM PORTAL) की स्थापना की है | ऑनलाइन की यह मंडी किसानों की हित के लिए ही है और अब तक देश के बहुत सारे किसान इसके तहत जुड़ चुके हैं और अपनी आय को दोगुना करने या अपनी आय को बढ़ाने के लिए काफी अच्छे से कार्य भी कर रहे हैं चलिए जानते हैं ई-नाम / E-NAM के बारे में

e-nam portal

राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना (ई-नाम मंडी / E-NAM Mandi ) / National Agriculture Market

नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में किसानों की आमदनी को दुगना करने के लिए सरकार ने राष्ट्रीय कृषि बाजार की स्थापना की यह एक ऑनलाइन मंडी है जो किसानों के लिए अभी बहुत अच्छे से कार्य कर रही है देश के ज्यादातर किसान अब इस मंडी ( e-nam mandi ) के साथ जुड़ रहे हैं और अभी करीब पौने दो करोड़ किसान इस मंडी से जुड़ चुके हैंराष्ट्रीय कृषि बाजार ( ई-नाम मंडी /E-NAM Mandi ) , 2017 में इस मंडी से केवल 17000 किसान ही जुड़े थे जबकि 2018-19 में इसकी संख्या पौने दो करोड़ तक पहुंच चुकी हैकिसानों को उनके फसल को बेचने पर एक उचित रकम मिल जाती है जो पूरे देश भर के किसानों के लिए होती है ।

E-NAM Portal / ई-नाम पोर्टल

ई-नाम पोर्टल / E-NAM Portal एक इलेक्ट्रॉनिक पोर्टल है जो पूरे देश के किसानों को 585 से भी अधिक मंडियों में अपने अनाज या उगाए गए फसलों को बेचने का बाजार उपलब्ध कराता है । ई-नाम / E-NAM पूरे देश में एग्री मार्केटिंग कमेटी को एक नेटवर्क से जोड़ने का काम करता है इसका एक मकसद एग्रीकल्चर प्रोडक्ट के लिए राष्ट्रीय स्तर पर एक उचित बाजार उपलब्ध करवाना है जिसमें किसानों को उनकी फसल की एवज में एक सही रकम मिल सके । ई-नाम पोर्टल / E-NAM Portal के इसी उपलब्धता को देखते हुए किसान इस पोर्टल पर बहुत ही तेजी से जुड़ रहे हैं । नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट के जरिए कृषि उत्पादों को अधिक दाम मिलेगा और सरकार का यह एजेंडा है कि 2022 तक किसानों की आमदनी भी दुगनी हो जाएगी जिसके लिए सरकार ने किसानों के लिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के साथ राज्य स्तर पर भी योजनाएं चलाई है और ई-नाम पोर्टल / E-NAM Portal भी विकसित कर दिया है ।

ई-नाम पोर्टल के फायदे / Benefits Of E-NAM Portal

चुकी यह एक इलेक्ट्रॉनिक पोर्टल है और इसके तहत देश के 585 मंडियों को शामिल किया गया है । इसकी सहायता से देश के विभिन्न राज्यों में स्थित कृषि उपज के मंडी को इंटरनेट के जरिए जोड़ दिया गया है । यानी कि अगर कोई बिहार का किसान अपने फसल को गोरखपुर में बेचना चाहता है तो कृषि उपज को ले जाने और मार्केटिंग करना काफी ज्यादा आसान हो गया है ।

किसानों को क्या है फायदा / Benefits For Farmer’s

ई-नाम / E-NAM पोर्टल का इस्तेमाल जो कोई किसान कर रहा है उसके लिए निम्नलिखित फायदे हैं ।

  1. ◆ देश के अलग-अलग राज्य के किसानों को एक उचित मंडी मिलेगी जिसमें उनके फसल के एवज में एक उचित रकम मिलेगा ।
  2. ई-नाम पोर्टल / E-NAM Portal की सहायता से किसान और खरीदार के बीच कोई दलाल नहीं रहेगा यानी किसान सीधा अपना फसल खरीदार को दे सकता है ।
  3. ◆ किसानों और व्यापारियों के बीच इस कारोबार में स्थानीय कृषि उपज मंडी के हित को कोई नुकसान नहीं होगा क्योंकि पूरा व्यापार इसी माध्यम से हो रहा है ।
  4. ◆ किसानों को उनकी फसल के एवज में एक उचित मूल्य मिलेगा जिससे किसानों को प्रोत्साहन और आय में भी बढ़ोतरी होगी ।

पहले क्या थी किसानों की सबसे बड़ी समस्या ?

ई-नाम पोर्टल/ E-NAM Portal आने से पहले किसानों की सबसे बड़ी समस्या यह होती थी कि वह जो फसल उगा रहा है उस पर काफी मेहनत कर रहा है लेकिन जब बाजार में वह फसल लेकर जाता है तो वह उसको एक बिचौलियों को देता है और वह बिचौलिया उसको खरीदार के पास बेचता है ऐसे में किसानों को बिचौलियों के द्वारा कम पैसा देकर फसल खरीद लिया जाता था और किसानों को अपनी फसल की एवज में उचित मूल्य नहीं मिल पाती थी लेकिन इस पोर्टल के आने से यह समस्या खत्म हो गई है ।

क्या है ई-नाम / What is E-NAM ?

ई-नाम पोर्टल / E-NAM Portal एक राष्ट्रीय कृषि बाजार है जो ऑनलाइन फसलों की बिकवाली का काम करता है । खरीदार और बेचने के लिए किसान अपने आप को खुद से ऑनलाइन रजिस्टर कर सकते हैं और अपनी फसल के ऊपर एक उचित मूल्य प्राप्त कर सकते हैं । किसानों को उनकी फसल के ऊपर उचित मूल्य दिलवाने के लिए देशभर में कृषि बाजार मंडी की स्थापना की गई है और अब यह राष्ट्रीय कृषि बाजार के रूप में कार्य करता है ।

E-NAM Portal की विशेस्ताएं क्या है ?

  1. ई-नाम / E-NAM की शुरुआत 14 अप्रैल 2016 में की गई थी जिसके तहत रजिस्टर्ड होकर किसान अपनी उपज के ऊपर उचित मूल्य प्राप्त कर सकता है और अपनी उपज को देश में जहां भी चाहे वहां बेच सकता है ।
  2. ● इस पोर्टल के आने से किसानों को अब बिचौलियों पर निर्भर होने की आवश्यकता नहीं है वह सरकार के द्वारा जोड़े गए 585 मंडियों में अपने फसलों को सीधा भेज सकता है ।
  3. ● केंद्रीय कृषि मंत्रालय के तहत काम करने वाला “लघु कृषक कृषि व्यापारी संघ” (एनएफसी) ई-नाम / E-NAM को लागू करने वाली सबसे बड़ी संस्था है जो सरकार की इस योजना में अहम भूमिका रखता है ।
  4. ● सरकार का मकसद इस साल ई-नाम / E-NAM में 200 और मंडियों को जोड़ने का है साथ ही अगले साल 215 नए मंडी को भी इसमें शामिल किए जा सकते हैं ।
  5. ● देशभर में अभी करीब 2700 कृषि उपज मंडी और 4000 उप बाजार मौजूद है । ई-नाम / E-NAM से अब दो राज्यों के बीच काम किया जाना संभव हो सका है ।

ई-नाम पे किसान कैसे रजिस्टर करें / How To Register Farmers On E-NAM Portal

ई-नाम / E-NAM पर किसान खुद को ऑनलाइन रजिस्टर्ड कर सकते हैं जिसकी प्रक्रिया हम आपको नीचे बता रहे हैं ।

E-NAM Farmer Registration

  • ◆ वेबसाइट पर जाने के बाद आपको रजिस्टर्ड का एक ऑप्शन दिखेगा जिसके अंतर्गत आपको Farmers का चयन करना होगा ।
  • जैसे ही आप Farmer का चयन करते हैं आपके सामने एक छोटा सा रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुलकर आ जाती है जिसमें आपको अपनी निजी जानकारी के साथ मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी भी दर्ज करनी होती है ।

Krishi Baazaar registration

  • ◆ दिए गए मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी पर आपको इनाम पोर्टल की लॉगइन आईडी और पासवर्ड प्राप्त होती है जिसके बदौलत आप लॉगिन करके राष्ट्रीय कृषि मंडी का प्रयोग कर सकते हैं ।

READ THIS POST IN ENGLISH 

ई-नाम / E-NAM पे कैसे रजिस्टर्ड करना है इसका वीडियो आप नीचे देख सकते है ।

ध्यान दें :- ऐसे ही केंद्र सरकार और राज्य सरकार के द्वारा शुरू की गई नई या पुरानी सरकारी योजनाओं की जानकारी हम सबसे पहले अपने इस वेबसाइट sarkariyojnaa.com के माध्यम से देते हैं तो आप हमारे वेबसाइट को फॉलो करना ना भूलें ।

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे Like और share जरूर करें ।

इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद…

Posted by Amar Gupta

🔥🔥 Join Our Group For All Information And Update, Also Follow me For Latest Information🔥🔥

🔥 Facebook PageClick Here
🔥 InstagramClick Here
🔥 Telegram Channel TechguptaClick Here
🔥 Telegram Channel Sarkari YojanaClick Here
🔥 TwitterClick Here
🔥 Website Click Here

FAQ E-NAM PORTAL 2020-21

✔️ क्या है ई-नाम / What is E-NAM ?

ई-नाम पोर्टल / E-NAM Portal एक राष्ट्रीय कृषि बाजार है जो ऑनलाइन फसलों की बिकवाली का काम करता है । खरीदार और बेचने के लिए किसान अपने आप को खुद से ऑनलाइन रजिस्टर कर सकते हैं और अपनी फसल के ऊपर एक उचित मूल्य प्राप्त कर सकते हैं । किसानों को उनकी फसल के ऊपर उचित मूल्य दिलवाने के लिए देशभर में कृषि बाजार मंडी की स्थापना की गई है और अब यह राष्ट्रीय कृषि बाजार के रूप में कार्य करता है ।

✔️ ई-नाम पोर्टल के फायदे / Benefits Of E-NAM Portal

◆ देश के अलग-अलग राज्य के किसानों को एक उचित मंडी मिलेगी जिसमें उनके फसल के एवज में एक उचित रकम मिलेगा ।
ई-नाम पोर्टल / E-NAM Portal की सहायता से किसान और खरीदार के बीच कोई दलाल नहीं रहेगा यानी किसान सीधा अपना फसल खरीदार को दे सकता है ।
◆ किसानों और व्यापारियों के बीच इस कारोबार में स्थानीय कृषि उपज मंडी के हित को कोई नुकसान नहीं होगा क्योंकि पूरा व्यापार इसी माध्यम से हो रहा है ।
◆ किसानों को उनकी फसल के एवज में एक उचित मूल्य मिलेगा जिससे किसानों को प्रोत्साहन और आय में भी बढ़ोतरी होगी ।

✔️ E-NAM Portal की विशेस्ताएं क्या है ?

ई-नाम / E-NAM की शुरुआत 14 अप्रैल 2016 में की गई थी जिसके तहत रजिस्टर्ड होकर किसान अपनी उपज के ऊपर उचित मूल्य प्राप्त कर सकता है और अपनी उपज को देश में जहां भी चाहे वहां बेच सकता है ।
● इस पोर्टल के आने से किसानों को अब बिचौलियों पर निर्भर होने की आवश्यकता नहीं है वह सरकार के द्वारा जोड़े गए 585 मंडियों में अपने फसलों को सीधा भेज सकता है ।
● केंद्रीय कृषि मंत्रालय के तहत काम करने वाला “लघु कृषक कृषि व्यापारी संघ” (एनएफसी) ई-नाम / E-NAM को लागू करने वाली सबसे बड़ी संस्था है जो सरकार की इस योजना में अहम भूमिका रखता है ।
● सरकार का मकसद इस साल ई-नाम / E-NAM में 200 और मंडियों को जोड़ने का है साथ ही अगले साल 215 नए मंडी को भी इसमें शामिल किए जा सकते हैं ।
● देशभर में अभी करीब 2700 कृषि उपज मंडी और 4000 उप बाजार मौजूद है । ई-नाम / E-NAM से अब दो राज्यों के बीच काम किया जाना संभव हो सका है ।

✔️ How To Register Farmers On E-NAM Portal ?

◆ सबसे पहले किसान को इसके आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा, जाने के लिए यहां क्लिक करें ।
E-NAM Farmer Registration
◆ वेबसाइट पर जाने के बाद आपको रजिस्टर्ड का एक ऑप्शन दिखेगा जिसके अंतर्गत आपको Farmers का चयन करना होगा ।
जैसे ही आप Farmer का चयन करते हैं आपके सामने एक छोटा सा रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुलकर आ जाती है जिसमें आपको अपनी निजी जानकारी के साथ मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी भी दर्ज करनी होती है ।
Krishi Baazaar registration
◆ दिए गए मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी पर आपको इनाम पोर्टल की लॉगइन आईडी और पासवर्ड प्राप्त होती है जिसके बदौलत आप लॉगिन करके राष्ट्रीय कृषि मंडी का प्रयोग कर सकते हैं ।


Please share this
  •  
  • 156
  •  
  • 628
  • 128
  •  
    912
    Shares
  •  
    1.7K
    Shares
  •  
  • 564
  • 256
  •  
  • 265
  • 657
  •  
Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

🔥🔥 Join Our Group For All Information And Update, Also Follow me For Latest Information🔥🔥
🔥 Facebook Page  Click Here
🔥 Instagram  Click Here
🔥 Telegram Channel Techgupta  Click Here
🔥 Telegram Channel Sarkari Yojana  Click Here
🔥 Twitter  Click Here
🔥 Website   Click Here

जरुरी सूचना

दोस्तों, हमारी वेबसाइट (sarkariyojnaa.com)सरकार द्वारा चलाई जाने वाली वेबसाइट नहीं है,ना ही किसी सरकारी मंत्रालय से इसका कुछ लेना देना है | यह ब्लॉग किसी व्यक्ति विशेष द्वारा, जो सरकारी योजनाओं में रुचि रखता है और औरों को भी बताना चाहता है, द्वारा चलाया गया है | हमारी पूरी कोशिश रहती की एकदम सटीक जानकारी अपने पाठकों तक पहुंचे जाए लेकिन लाख कोशिशों के बावजूद भी गलती की सम्भावना को नकारा नहीं जा सकता| इस ब्लॉग के हर आर्टिकल में योजना की आधिकारिक वेबसाइट की जानकारी दी जाती है| हमारा सुझाव है कि हमारा लेख पढ़ने के साथ साथ आप आधिकारिक वेबसाइट से भी जरूर जानकारी लीजिये | अगर किसी लेख में कोई त्रुटि लगती है तो आपसे आग्रह है कि हमें जरूर बताएं |

हम अपने ब्लॉग के माध्यम से रजिस्ट्रेशन नहीं करवाते ना ही कभी भी पैसे कि मांग करते हैं | हमारा उद्देश्य है केवल आप तक सही जानकारी पहुँचाना !