7th Economy Census From CSC , सातवीं आर्थिक जनगणना सीएससी के माध्यम से कैसे किया जाएगा ।

Please share this
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

भारत की सातवीं आर्थिक जनगणना की बात करें तो यह जनगणना 2019 अप्रैल महीने में CSC के माध्यम से शुरू किया जाना है , इसके तहत बहुत सारे बेरोजगार युवकों को रोजगार का अवसर भी प्रदान होगा और भारत की आर्थिक जनगणना भी हो जाएगी । CSC की है इसमें अहम भूमिका ।

इस पोस्ट में क्या है ?

भारत की सातवीं आर्थिक जनगणना ।

किसी भी देश की आर्थिक स्थिति को बढ़ाने के लिए वहाँ के नागरिकों की आर्थिक स्थिति के बारे में जानकारी होना काफी ज्यादा जरूरी होता हैै और आर्थिक जनगणना भी इसी प्रकार की जनगणना है , आर्थिक जनगणना के अंतर्गत भारत के लोगों की आर्थिक स्थिति के बारे में जानकारी लेना है । आर्थिक जनगणना के अंतर्गत 12 करोड़ से अधिक हाउसहोल्ड का सर्वे किया जाएगा जिसको करने के लिए 15 लाख से अधिक नए लोगों की जरूरत होगी , जो कि CSC के माध्यम से दिया जाएगा । CSC को संचालित करने वाले VLE इसमें एक सुपरवाइजर की भूमिका अदा करेंगे और इनके द्वारा दिए गए लोग ENUMRATOR के तौर पर कार्य करेंगे ।

सातवीं आर्थिक जनगणना में सीएससी कैसे काम करेगा ।

भारत की सातवीं आर्थिक जनगणना मुख्य तौर पर CSC के SUPERVISOR/ENUMRATOR के द्वारा ही किया जाएगा । इसके अंदर इन CSC के SUPERVISOR/ENUMRATOR को एक गांव, कस्बा, इलाका मुहैया कराई जाएगी इसका सर्वे उन्हें समय रहते करना होगा ।

काम करने के लिए दिए जाएंगे ट्रेनिंग ।

बता देते हैं जो कोई व्यक्ति सातवी आर्थिक जनगणना का कार्य करना चाहता है उनको सबसे पहले इसके लिए आवेदन करना होगा , आवेदन के पश्चात उन्हें कुछ अध्ययन की सामग्री दी जाएगी जिसका उन्हें अध्ययन करना होगा । इसके बाद उनकी ट्रेनिंग कराई जाएगी और जब इन की ट्रेनिंग पूरी होती है तब इन्हें एक एग्जाम पास करना होगा । जब यह व्यक्ति एग्जाम पास कर जाते हैं तभी यह आर्थिक जनगणना के कार्य करने के लिए सक्षम माने जाएंगे , एग्जाम पास होने के बाद जनगणना करने के लिए एक सर्टिफिकेट दिया जाएगा और एक मोबाइल एप्लीकेशन भी दी जाएगी , इसी मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से यह भारत की सातवीं आर्थिक जनगणना के कार्य को अंजाम देंगे ।

सातवीं आर्थिक जनगणना करने के लिए कितने दिए जाएंगे पैसे ।

भारत की सातवी आर्थिक जनगणना का कार्य करने के लिए CSC के SUPERVISOR/ENUMRATOR निश्चित पैसे दिए जाएंगे जो इस प्रकार से हैं ।

ENUMRATOR OR SUPERVISOR को कितनी मिलेगी सैलरी ?

आर्थिक जनगणना 2019 का कार्य करने वाले लोगों को सरकार के द्वारा एक निश्चित राशि दी जाएगी । सर्वे करने वाले Enumrator/Supervisor को मेहताने के तौर पर यानी सर्वे करने के लगभग ₹15 से ₹20 प्रति परिवार दिए जाएंगे । यदि हम भारत देश की बात करे तो इसमें ही केबल 20 करोड़ परिवार मौजूद है ,यानी इसके उपर लगभग 300 करोड़ से भी अधिक रुपये का खर्च आएगा ।

COMMISSION STRACTURE  FOR CSC VLE SUPERVISOR 

3.50 रुपिया घरों के लिए

4.50 रुपिया छोटे दुकान के लिए

6.50 रुपिया फैक्ट्री के लिए

COMMISSION STRACTURE  FOR ENUMERATOR

10 रुपिया घरों के लिए

16 रुपिया छोटे दुकान के लिए

20 रुपिया फैक्ट्री के लिए

पंजीकरण की प्रकिया 24 मार्च 2019 से पहले करना आप सब सुनिश्चित करे

CSC SPV द्वारा राशि का भुगतान VLE के खाते में किया जाएगा ।

भारत की सातवीं आर्थिक जनगणना करने के लिए मोबाइल एप्लीकेशन का प्रयोग किस प्रकार से करना है ?

अगर आप साध्वी आर्थिक जनगणना के की पहली ट्रेनिंग के अंतर्गत मोबाइल एप्लीकेशन मध्यम से एक परिवार का आर्थिक जनगणना करने की प्रक्रिया के बारे में जानना चाहते हो तो इस लिंक पर क्लिक करें ।

CSC 7th Economic Census 2019 , घर का आर्थिक जनगणना कैसे करें , Application को कैसे उपयोग करें । Working process for VLE and Enumerators
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना अब दो हेक्टेयर से अधिक जमीन वाले किसानों को भी दिया जाएगा योजना का लाभ, राजनाथ सिंह का बयान ।
आयकर विभाग करेगी कानूनी कार्रवाई पैन कार्ड बनाने वाली एजेंसी पर , जो करते हैं पैन कार्ड बनाने का काम हो जाएं सावधान ।
7वीं आर्थिक जनगणना 2019 में कितनी मिलेगी सैलरी Enumrator Or Supervisor,कैसी है कमाई जाने सारी बातें ।

 


Please share this
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जरुरी सूचना

दोस्तों, हमारी वेबसाइट (sarkariyojnaa.com)सरकार द्वारा चलाई जाने वाली वेबसाइट नहीं है,ना ही किसी सरकारी मंत्रालय से इसका कुछ लेना देना है | यह ब्लॉग किसी व्यक्ति विशेष द्वारा, जो सरकारी योजनाओं में रुचि रखता है और औरों को भी बताना चाहता है, द्वारा चलाया गया है | हमारी पूरी कोशिश रहती की एकदम सटीक जानकारी अपने पाठकों तक पहुंचे जाए लेकिन लाख कोशिशों के बावजूद भी गलती की सम्भावना को नकारा नहीं जा सकता| इस ब्लॉग के हर आर्टिकल में योजना की आधिकारिक वेबसाइट की जानकारी दी जाती है| हमारा सुझाव है कि हमारा लेख पढ़ने के साथ साथ आप आधिकारिक वेबसाइट से भी जरूर जानकारी लीजिये | अगर किसी लेख में कोई त्रुटि लगती है तो आपसे आग्रह है कि हमें जरूर बताएं |

हम अपने ब्लॉग के माध्यम से रजिस्ट्रेशन नहीं करवाते ना ही कभी भी पैसे कि मांग करते हैं | हमारा उद्देश्य है केवल आप तक सही जानकारी पहुँचाना !