शिक्षामित्रों के हक के लिए हजारों छात्रों की आवाज बुलंद की

शिक्षामित्रों के हक के लिए हजारों छात्रों की आवाज बुलंद की

राजधानी नीतीश पर कि आई हजारों छात्रों ने बुनियादी मुद्दों को लेकर गुरुवार को आवाज उठाई छात्रों ने शिक्षा,रोजगार,गरीबी ,सम्मान ,जैसे मुद्दों को लेकर समाज मस्जिद के संसद मार्ग तक यंग इंडिया अधिकार मार्च निकाल। छात्रों के संघटने के पद राजनीतिक दलों ने शिक्षा की व्यवस्था करण, रोजगार की घटती अवसर, वह भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज बुलंद की संसद मार्ग पर नेताओं की जनसभा को संबोधित करते हुए केंद्र सरकार पर हमला बोला। सपा संसाद धर्मेंद्र यादव ने कहा कि सरकार की युवकों के मुद्दों को अनदेखी कर रही है। जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने कहा कि छात्र शिक्षा रोजगार, सम्मान के लिए एक मंच पर आ गए हैं। आज का युवा कह रहा है कि हमें जुमला नहीं रोजगार चाहिए।

हरियाणा छोड़ दिए जाए तो देश के अन्य राज्य में भाजपा की अकेली सरकार नहीं है। तेरा व्हाइट स्टार लगाकर शिक्षक संस्थाओं में दलित,

अक्सर छीनी जा रहे हैं। इंडिया स्टूडेंट एसोसिएशन यो अध्यक्ष दे ने कहा कि केंद्र सरकार लगातार शिक्षा का बजट घाटा की जा रही है। शिक्षा का निजीकरण हो रहा है।

शिक्षा का बजट बढ़ाया जाए

प्रमुख मांगे

● युवाओ को शिक्षा- रोजगार मिले
13 प्लाइंट रोस्टर वापस लिए जाएं
● शिक्षा की बचत 10 फीसडी किया जाए
● बेरोजगारों को भत्ता दिया जाए

नारेबाजी

जमा मस्जिद मेट्रो स्टेशन के गेट संख्या 3 पर दोपहर 12:00 बजे तक लगभग 3000 छात्र जमा हो गए और वहीं से नारा लगाना शुरू किया।

जाम

दरियागंज, अरूणा आसफ अली अली और महाराजा रणजीत सिंह फ्लाईओवर होती हुए छात्रों की मार्कशीट कई जगह जाम भी लगा।

राजधानी में देश भर से आए हजारों छात्रों ने अपनी मांगों को लेकर गुरुवार को यंग इंडिया अधिकार मार्च निकाला

यंग इंडिया अधिकार मार्च शिक्षा रोजगार और सम्मान के मामले पर देशभर के आए छात्रों ने जामा मस्जिद की संसद मार्ग तक मार्च निकाला

नेता बोले

1.. केंद्र सरकार शिक्षक छात्रों लेखकों के लिए इसकी मृत्यु आम लोगों की अनुकूल नहीं है वह बुनियादी मुद्दों से लोगों का ध्यान भटका रही ह

2.. सरकार गरीबों और किसानों के साथ मजाक कर रही है। किसानों ने खाते में 6000 भेज देने से उनकी बुनियादी जरूरतें पूरी नहीं हो पाएगी

3.. भाजपा के कार्यकाल में हर वर्ग वाली से ज्यादा असुरक्षित है। कोशिश है कि किसानों की नौजवानों का मुद्दा ही ना उठे। लेकिन इस बार नौजवान उठ खड़ा हुआ।

4.. सरकार वादे से मुकर ते जा रही है। देश में 24 लाख सुजीत है, लेकिन उन पर भारतीयों नहीं हुई है। जो विरोध कर रहा है उसके यहां सीबीआई भेजी जा रही है

छात्रों बोले

छात्र हमेशा से सुविधा की मांग उठाते रहे हैं लेकिन इसे नहीं बढ़ाया जा रहा है। छात्रों को बेरोजगार पर सबसे ध्यान देना चाहिए।

उत्तर प्रदेश से परीक्षार्थियों प्रदर्शित नहीं है। परीक्षा होने से पहले इसका उत्तर सोशल मीडिया पर आ जाता है। इसे रोकने की जरूरत है।

सरकार आज छात्रों के हक पर हमला कर रही है। प्रभावी शैक्षणिक संस्थाओं हो रहे हैं। छड़ का वजन कम करने के साथी निजीकरण हो रहा है

Leave a Comment